NCIPM logo
पुरस्कार एवं सम्मान
सर्वश्रेष्ठ वैज्ञानिक पुरस्कार-2022
मुकेश सहगल, प्रधान वैज्ञानिक को साबूजीमा पुरस्कार समारोह-शिक्षक दिवस 05 सितम्बर, 2022 की पूर्व संध्या पर कृषि विज्ञान के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए अंतर्राष्ट्रीय बहु-विषयक ई-पत्रिका द्वारा सर्वश्रेष्ठ वैज्ञानिक पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
प्रख्यात वैज्ञानिक पुरस्कार-2022
डॉ मुकेश सहगल को वानिकी संस्थान में 17 सितंबर, 2022 को "कृषि, वानिकी, पर्यावरण और खाद्य सुरक्षा पर वैश्विक प्रयास (GAFEF-2022)" पर चौथे अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में आई.पी.एम में उत्कृष्ट अनुसंधान और विस्तार के लिए प्रख्यात वैज्ञानिक पुरस्कार 2022 त्रिभुवन विश्वविद्यालय, पोखरा कैंपस पोखरा, नेपाल में सम्मानित किया गया।
इंडियन आईकॉन अवार्ड-2022
डॉ मुकेश सहगल, प्रधान वैज्ञानिक ने 10 सितंबर, 2022 को आईआईए 2022 सम्मेलन में काइट्सक्राफ्ट प्रोडक्शंस द्वारा वर्चुअल मीटिंग में अनुसंधान में उत्कृष्टता के लिए इंडियन आईकॉन अवार्ड 2022 से सम्मानित किया।
भारतीय ज्ञान रत्न पुरस्कार-2022
डॉ. मुकेश सहगल प्रधान वैज्ञानिक को 28 अगस्त,2022 को पुणे भारत में पदमश्री डॉ. पदमराजा रेड्डी द्वारा आईपीएम के क्षेत्र में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए भारतीय ज्ञान रत्न पुरस्कार 2022 से सम्मानित किया गया।
उत्कृष्ट वैज्ञानिक पुरस्कार-2022
डॉ मुकेश सहगल प्रधान वैज्ञानिक को 08-09 अगस्त 2022 को नौगॉन्ग, असम, भारत में कृषि, जैविक और अनुप्रयुक्त विज्ञान अनुसंधान में हालिया प्रगति पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में कृषि फसलों में आईपीएम के क्षेत्र में उनके सराहनीय योगदान के लिए उत्कृष्ट वैज्ञानिक पुरस्कार 2022 से सम्मानित किया गया।
एस.बी.ई.आर, त्रिपुरा की मानद फ़ेलोशिप
डॉ मुकेश सहगल, प्रधान वैज्ञानिक को एस.बी.ई.आर. द्वारा पौध संरक्षण में उनके उत्कृष्ट कार्य के लिए मानद पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
नानाजी देशमुख आई.सी.ए.आर. अवार्ड- 2021
डॉ. सुभाष चंदर (एसोसिएट) को कृषि प्रौद्योगिकियों के अनुप्रयोग के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार 'नानाजी देशमुख कृषि और सम्बद्ध विज्ञान में उत्कृष्ट अन्तर विषय टीम अनुसंधान के लिए आईसीएआर पुरस्कार 2021'
कृषि भूषण पुरस्कार-2019
डॉ आर.वी. सिंह को सम्राट अशोक प्रौद्योगिकी संस्थान,विदिशा,मध्य प्रदेश में मंथन -5 और राष्ट्रीय कृषि व्यवसाय शिखर सम्मेलन -2019 के दौरान 13-14 दिसंबर, 2019 को कृषि भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
राजश्री टंडन अवार्ड-2018
आईसीएआर-एनसीआईपीएम ने 91 वें आईसीएआर-स्थापना दिवस 16 जुलाई, 2019 को नई दिल्ली में आयोजित, के अवसर पर राजभाषा में उत्कृष्ट प्रशासनिक कार्यों के लिए छोटे संस्थानों की श्रेणी के तहत 2018 के लिए राजश्री टंडन पुरस्कार प्राप्त किया।
एक्सीलेंस इन रिसर्च अवार्ड-2019
डॉ राम अवतार शिक्षा समिति (डी.आर.ए.एस.एस.), लखनऊ विश्वविद्यालय, लखनऊ, उत्तर प्रदेश द्वारा 12 जुलाई, 2019 को कृषि के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए डॉ अजंता बिराह को उत्कृष्टता पुरस्कार -2019 से सम्मानित किया गया।
छोटे संस्थान की श्रेणी में प्रथम पुरस्कार
आईसीएआर-एनसीआईपीएम को 26 जून, 2019 को एनएएससी कॉम्प्लेक्स, पूसा, नई दिल्ली में टाउन ऑफिशियल लैंग्वेज इंप्लीमेंटेशन कमेटी (टीओएलआईसी), नॉर्थ ज़ोन, नई दिल्ली द्वारा छोटी संस्थान की श्रेणी में प्रथम पुरस्कार मिला।
लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार
पहचान, अभिसरण, सतत विकास के लिए उपलब्ध होने योग्य मुद्दों के कार्यान्वयन पर राष्ट्रीय सम्मेलन में 20-21 अप्रैल, 2019 के दौरान एसवीपीयूएटी, मोदीपुरम,उत्तर प्रदेश में फसल संरक्षण के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए डॉ एच आर सरदाना को लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया गया।
बायोवेड ऑनरेरी फैलोशिप अवार्ड
डॉ एच आर सरदाना को 16 फरवरी, 2019 को बायोवेड रिसर्च इंस्टीट्यूट ऑफ एग्रीकल्चर टेक्नोलॉजी एंड साइंसेज, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश द्वारा कृषि के सतत विकास में उत्कृष्ट योगदान के लिए बायोवेड ऑनरेरी फैलोशिप अवार्ड प्राप्त हुआ।
स्वर्गीय डॉ संजय कुशवाहा मेमोरियल अवार्ड-2018
डॉ एस वेन्निला को 20-22 दिसंबर, 2018 के दौरान तबीजी, अजमेर, राजस्थान में सोसाइटी फॉर प्लांट प्रोटेक्शन साइंसेज के अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में स्वर्गीय डॉ संजय कुशवाहा मेमोरियल अवार्ड -2018 से सम्मानित किया गया।
आईपीएम स्टॉल के लिए पुरस्कार
डॉ सुरेंद्र कुमार सिंह को आईपीएम स्टॉल के लिए 19-22 दिसंबर, 2018 के दौरान प्रगति मैदान, नई दिल्ली में अंतर्राष्ट्रीय कृषि हॉर्ट एक्सपो में दूसरा पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
नगर राजभाषा कार्यान्व्यन समिति (उत्तरी दिल्ली) द्वारा राजभाषा में किये गए कार्यों के लिए प्रोत्साहन पुरस्कार-2018
संस्थान को नगर राजभाषा कार्यान्व्यन समिति (उत्तरी दिल्ली) द्वारा किसानों के लिए राजभाषा में प्रकाशित प्रकाशनों व उत्कृष्ट कार्य निष्पादन के लिए 22 जून 2018 को छोटे कार्यालयों की श्रेणी में प्रोत्साहन पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
डॉ डी बाप रेड्डी स्मारक 2016-2018 के लिए द्विवार्षिक पुरस्कार
डॉ एस वेन्निला को 20 अप्रैल, 2018 को एनआईपीएचएम, हैदराबाद में प्लांट प्रोटेक्शन एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया द्वारा बायनियम 2016-2018 के लिए डॉ डी बाप रेड्डी मेमोरियल अवार्ड से सम्मानित किया गया।
कृषि विज्ञान गौरव पुरस्कार-2017
डॉ निरंजन सिंह, डॉ एस वेन्निला, एच यादव और अजय कुमार सिंह को 29 नवंबर, 2017 को भरथिया अनूसंदन संचार केंद्र, करनाल, हरियाणा द्वारा कृषि विज्ञान गौरव पुरस्कार -2017 से सम्मानित किया गया।
अभिनव वैज्ञानिक पुरस्कार
डॉ आर वी सिंह को 23 नवंबर, 2017 को करनाल, नई दिल्ली के अनुसन्धान केंद्र में यशी रिसर्च फाउंडेशन द्वारा इनोवेटिव साइंटिस्ट अवार्ड से सम्मानित किया गया।
वीनस इंटरनेशनल रिसर्च अवार्ड्स
डॉ सुमित्रा अरोड़ा को वीनस इंटरनेशनल रिसर्च, चेन्नई, तमिलनाडु द्वारा अंतर्राष्ट्रीय विशिष्ट वैज्ञानिक पुरस्कार से 11 नवंबर, 2017 को सम्मानित किया गया।
नगर राजभाषा कार्यान्व्यन समिति (उत्तरी दिल्ली) द्वारा राजभाषा में किये गए कार्यों के लिए प्रथम पुरस्कार-2017
संस्थान को नगर राजभाषा कार्यान्व्यन समिति (उत्तरी दिल्ली) द्वारा किसानों के लिए राजभाषा में प्रकाशित प्रकाशनों व उत्कृष्ट कार्य निष्पादन के लिए 30 जून 2017 को संस्थानों की श्रेणी में प्रथम पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
उत्कृष्ट कृषि वैज्ञानिक पुरस्कार 2017
डॉ मुकेश सहगल को 19-23 जून, 2017 के दौरान वैज्ञानिक शैक्षिक अनुसंधान सोसायटी, मेरठ, उत्तर प्रदेश द्वारा उत्कृष्ट वैज्ञानिक पुरस्कार 2017 से सम्मानित किया गया।
स्वर्गीय श्री पी.पी. सिंघल जी अवार्ड -2017
डॉ डी बी आहूजा को स्वर्गीय श्री पी.पी. सिंघल जी अवार्ड , 17 फरवरी, 2017 को यू बी के वी, कूच बिहार, डब्ल्यू बंगाल में एंटोमोलॉजी के क्षेत्र में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए दिया।
सर्वश्रेष्ठ वार्षिक रिपोर्ट (2015-16)
डॉ डी बी आईसीएआर-एनसीआईपीएम के निदेशक आहूजा को आईसीएआर निदेशकों के सम्मेलन में वर्ष 2015-16 के लिए सर्वश्रेष्ठ वार्षिक रिपोर्ट पुरस्कार मिला 14 फरवरी, 2017।
फैलो मोबिलाइजेशन अवार्ड
डॉ सुमित्रा अरोड़ा को फैलो मोबिलाइजेशन पुरस्कार से सस्टेनेबल डेवलपमेंट के लिए सोसाइटी ऑफ कम्युनिटी मोबिलाइजेशन द्वारा 2017 में आईएआरआई, नई दिल्ली में सम्मानित किया गया।
वीनस इंटरनेशनल फाउंडेशन
डॉ सुरेंद्र कुमार सिंह को वीनस इंटरनेशनल फाउंडेशन, चेन्नई द्वारा 2017 में एंटोमोलॉजी अवार्ड में प्रतिष्ठित वैज्ञानिक से सम्मानित किया गया।
सामग्र विकास विकास सोसाइटी अवार्ड
डॉ सुमित्रा अरोड़ा को 2017 में उत्तर प्रदेश के लखनऊ, विकास विकास वेलफेयर सोसाइटी द्वारा शोध में उत्कृष्टता के लिए सम्मानित किया गया।
राजश्री टंडन पुरस्कार-2015
संस्थान को ‘क’ क्षेत्रों में छोटे संस्थानों की सूचि में किसानो के लिए हिन्दी में किये गए उत्कृष्ट कार्यों जैसे किसानो के लिए कृषि के क्षेत्र में प्रसार पत्रक, साहित्य, समेकित नाशीजीव प्रबंधन के लिए पुस्तकों के प्रकाशन व प्रतिवेदन के लिए "राजश्री टंडन” पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
स्वर्गीय श्री पी.पी. सिंघल जी अवार्ड -2015
डॉ एस वेन्निला को स्वर्गीय श्री पी.पी. सिंघल जी अवार्ड -2015 से 23 अप्रैल, 2015 को राजस्थान के उदयपुर में एमपीयूएटी में एंटोमोलॉजी के क्षेत्र में अपना योगदान के लिए सम्मानित किया गया।
लोक प्रशासन में उत्कृष्टता के लिए प्रधान मंत्री पुरस्कार (2012-13)
फसल कीट निगरानी और सलाहकार परियोजना (सीआरओपीएसएपी) -महाराष्ट्र, आईसीएआर-एनसीआईपीएम, आयुक्तालय, पुणे, महाराष्ट्र की एक सहयोगी पहल और लोक प्रशासन में उत्कृष्टता के लिए 2012-13 के लिए प्रधान मंत्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
एमके पाटिल यंग साइंटिस्ट अवार्ड -2016
डॉ सोमेश्वर भगत को पुरोहित एम.के. पाटिल पुरस्कार -2013, भारतीय फाइटो पैथोलॉजिकल सोसायटी, नई दिल्ली द्वारा दिया गया ।
राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस अवार्ड-2012
फसल कीट निगरानी और सलाहकार परियोजना (सीआरपीएसएपी) -महाराष्ट्र, आईसीएआर-एनसीआईपीएम, कृषि आयुक्तालय, महाराष्ट्र, महाराष्ट्र और अन्य की एक सहयोगात्मक पहल को ई-गवर्नेंस पर 15 वें राष्ट्रीय सम्मेलन में आईसीटी-आधारित समाधानों के अनुकरणीय उपयोग के लिए स्वर्ण पदक से 9-10 फरवरी, 2012 के दौरान ओडिशा के भुवनेश्वर में सम्मानित किया गया।
एंडेवर पोस्ट डॉक्टरल फैलोशिप
डॉ सुमित्रा अरोड़ा को अप्रैल-अक्टूबर, 2010 के लिए शिक्षा विभाग, रोजगार और कार्यस्थल संबंध, ऑस्ट्रेलिया द्वारा एंडेवर पोस्ट डॉक्टरल फैलोशिप से सम्मानित किया गया।
स्वामी सहजनानंद सरस्वती एक्सटेंशन साइंटिस्ट/वर्कर अवार्ड बायनियम 2007-2008
16 जुलाई, 2009 को नई दिल्ली में आयोजित आईसीएआर के स्थापना दिवस के दौरान डॉ पी जयकुमार को 2007-2008 के लिए स्वामी सहजानंद सरस्वती एक्सटेंशन साइंटिस्ट/वर्कर अवार्ड से सम्मानित किया गया।
2005-06 के लिए आईसीएआर आउटस्टैंडिंग टीम अवार्ड
आईसीएआर- एनसीआईपीएम धान आईपीएम टीम जिसमें डॉ डी के गर्ग, डॉ एम डी जेसवानी, डॉ आर.के. तंवर, श्री विकास कंवर, श्री एस.पी. सिंह और डॉ ओ एम बंबावाले को 2005-06 के लिए आईसीएआर आउटस्टैंडिंग टीम अवार्ड से सम्मानित किया गया।
2001-02 में द्विवार्षिकी के लिए आईसीएआर आउटस्टैंडिंग टीम अवार्ड
आईसीएआर-एनसीआईपीएम कॉटन आईपीएम टीम में डॉ अमृिका सिंह, डॉ ओ एम बंबावाले, डॉ ओ पी शर्मा, श्री आर सी लावेकर, डॉ ए धांडापानी, डॉ एस एन पुरी, डॉ सी डी मेई, डॉ एस मूर्ति को द्विवार्षिक 2001-02 के लिए आईसीएआर की उत्कृष्ट टीम का पुरस्कार से सम्मानित किया गया।